Home » QUOTES » Full Form in Hindi » IUCN Full Form in Hindi


IUCN Full Form in Hindi

IUCN Full Form in Hindi

IUCN की स्थापना वर्ष - 05 October 1948

IUCN की मुख्यालय - Gland, स्विट्जरलैंड [Switzerland]

अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ - IUCN [ International Union for Conservation of Nature ]

IUCN Full Form in Hindi

मुख्य कार्य - यह संस्था UNO (United Nations Organisation) और अन्य गैरसरकारी संगठन के लिए WWF (World Wildlife Fund) के साथ मिलकर वैज्ञानिक प्रकृति के संरक्षण तकनीक बढ़ावा देना और व्यावहारिक समाधान खोजने में मदद करना होता है।

अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ जो कि प्रकृति संरक्षण और प्राकृतिक संसाधनों के सतत प्रयोग क्षेत्र में पूर्ण रूप से स्वतंत्र होकर कार्य करती है। 

अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ में संकटशील जीवों और पादपों (पौधों) की गिरती जनसंख्या के आधार पर विभिन्न स्तरों पर वर्गीकृत किया जाता है। 

वर्ष 1963 से यह रेड डाटा बुक (Red Data Book) का प्रकाशन किया गया है। रेड डाटा बुक के पन्ना (Pink) गुलाबी रंग का होता है। 

मुख्य रूप से अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ द्वारा प्रकाशित रेड डाटा बुक (Red Data Book) में विलुप्ति के कगार में आ चुके संकटग्रस्त जीवों और पादपों (पौधों) की जातियों को सम्मिलित किया जाता है। 

अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ को जीवों और पादपों (पौधों) की जैविक विविधता की स्थिति जानने के लिये सबसे उत्तम स्रोत माना गया है।

 

IUCN Full Form in Hindi

IUCN Full Form in Hindi

IUCN अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ [ International Union for Conservation of Nature ] की सूची के निम्नलिखित लाभ होते हैं -

  •  अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ पर्यावरण से सबंधित जीवों और पादपों (पौधों) की संरक्षण हेतु विश्व में सबसे बड़ी संस्था है। 
  •  अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ के द्वारा  प्रजाति को तभी विलुप्त माना जाता है जब वह अपने प्राकृतिक आवास में अंतिम सदस्य के रूप में कम से कम 50 वर्षों से देखा ना गया हो। 
  •  अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ के सूची में संकटग्रस्त प्रजातियों के संरक्षण हेतु हर संभव मदद अर्थात संकटग्रस्त प्रजातियों के प्रजनन में मदद करके जीवों की संख्या बढ़ाना होता है। 
  •  अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ के सूची के द्वारा संकटग्रस्त प्रजातियों की पहचान करके इनका अभिलेखन किया जाता है। 
  •  अंतर्राष्ट्रीय प्रकृति संरक्षण संघ द्वारा प्रकाशित रेड डाटा बुक (Red Data Book) में विलुप्ति के कगार में आ चुके संकटग्रस्त प्रजातियों के महत्व विषय में विभिन्न स्तर पर जागरूकता अभियान चलाया जाता है।