Home » GRAMMAR


English Grammar in Hindi

English Grammar in Hindi

English Grammar अगर आप English सीखना चाहते हैं तो English Grammar को अच्छे से जानना और सीखना बहुत जरुरी है, क्योंकि अंग्रेजी व्याकरण में उपस्थित सभी अध्याय आपकी अंग्रेजी सीखने में पूरी मदद करेंगे, अंग्रेजी व्याकरण ही अंग्रेजी सीखने की पहली सीढ़ी है। यहां पर आप अंग्रेजी के सभी तथ्यों को समझ सकते हैं। आइये एक के बाद तथ्यों को समझते हैं।

1. Words of English Alphabet

अंग्रेजी वर्णमाला Alphabet में कुल 26 वर्ण / अक्षर ( Letters ) होते हैं।

A, B, C, D, E, F, G, H, I, J, K, L, M, N, O, P, Q, R, S, T, U, V, W, X, Y, Z.

अंग्रेजी वर्णमाला के इन 26 वर्णों को दो भागों में बाँटा गया है -

1. स्वर ( Vowel )
2. व्यंजन ( Consonant )

स्वर ( Vowels ) 

अंग्रेजी में 5 वर्ण स्वर होते हैं।

A, E, I, O, U.

व्यंजन ( Consonants ) 

स्वर के अलावा बांकी बचे 21 वर्णों को व्यंजन कहते हैं।

B, C, D, F, G, H, J, K, L, M, N, P, Q, R, S, T, V, W, X, Y, Z.

1. Capital Letters

A, B, C, D, E, F, G, H, I, J, K, L, M, N, O, P, Q, R, S, T, U, V, W, X, Y, Z.

2. Small Letters

a, b, c, d, e, f, g, h, i, j, k, l, n, o, p, q, r, s, t, u, v, w, x, y, z.

2. Punctuation of English ( विराम चिह्न ) 

अंग्रेजी में विराम चिह्न का बहुत ही महत्व है, क्योंकि हम अंग्रेजी हो या हिंदी में बोलते समय किसी भी वाक्य में कहीं न कहीं पर रुकते हैं या फिर अपने बातों के जरिये आप किसी को अपने वाक्यों को छुपे अर्थों का अहसास कराते हैं, वहीं पर हम किसी ना किसी विराम चिन्हों का प्रयोग करते हैं। आइये कुछ ऐसे ही महत्वपूर्ण विराम चिन्हों को जानते हैं। 

1. विस्मयादिबोधक चिन्ह ! ( Exclamation marks ! )

विस्मयादिबोधक चिन्ह का प्रयोग हम किसी वाक्य में जब अपनी भावनाओं को व्यक्त करना होता है तो, वहां पर विस्मयादिबोधक चिन्ह का इस्तेमाल करते हैं। जैसे की कभी किसी वाक्य में ख़ुशी प्रकट करना हो या फिर किसी वाक्य में दुःख प्रकट करना हो और जैसे नाराजगी जाहिर करना, हैरानी, शाबाशी या फिर किसी दुआ देना हो तो वहाँ पर हम विस्मयादिबोधक चिन्ह का प्रयोग करेंगे। विस्मयादिबोधक चिन्ह को वाक्य के अंत में लगाकर का प्रयोग करते हैं।

आइये उदाहरण के द्वारा समझें

1. वाह !

1. Wow !

2. भगवान का शुक्र है !

2. Thank God !

3. बधाई हो !

3. Congratulation !

4. शाबाश !

4. Well done !

5. बहुत बहुत धन्यवाद !

5. Thanks a lot !

2. प्रश्न चिन्ह ? ( Question Mark ? )

प्रश्न चिन्ह ? का प्रयोग हम किसी वाक्य में जब प्रश्न पूछते हैं तब इस्तेमाल करते हैं। 

आइये उदाहरण के द्वारा समझें

1. तुम्हारा नाम क्या है ?

1. What is your name ?

2. तुम क्या करते हो ?

2. What do you do ?

3. वह कहाँ रहता है ?

3. Where does he live?

3. पूर्ण विराम चिन्ह . ( Full Stop . )

जब हम कोई वाक्य को पूरा खत्म करते हैं तब वहां पर हम पूर्ण विराम का इस्तेमाल करते हैं, चाहे वह नकारात्मक वाक्य हो या प्रश्नवाचक वाक्य हो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है। पूर्ण विराम का प्रयोग एक वाक्य के खत्म होने के तुरंत बाद करते हैं और दूसरे वाक्य के शुरू होने से पहले करते हैं। 

आइये उदाहरण के द्वारा समझें

1. मैं घर जा रहा हूँ।

1. I am going to home.

2. अभी वह स्कूल गया था।

2. He had gone to school now/just.

2. मैं सेब खाता हूँ।

3. I eat apple.

4. उद्धरण चिन्ह   ( Quotation mark   ) 

उद्धरण चिन्ह का प्रयोग हम सामान्यतः जब कोई बात में कुछ खास बात को व्यक्त करना चाहते हैं तब इस चिन्ह को लगते हैं। यह खास बात के शुरू होने के पहले और खास बात खत्म होने के बाद इस्तेमाल किया जाता है।

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. पिताजी ने कहा "तुम बाज़ार जाना पड़ेगा"

1. Dad said you have to go to market "

2. माँ ने मुझसे कहा "तुम्हे स्कूल जाना पड़ेगा"

2. Mom told to me " you have to go to school  "

5. अक्षर लोप ' ( Apostrophe mark ' ) 

इस चिन्ह का प्रयोग हम दो तरह से करते हैं, पहला जब हमें बताना हो की यह "किसी का वस्तु है या कोई भी चीज है" अर्थात " का " के अर्थ के लिए इस्तेमाल करते हैं। और दूसरा यह की जब हम सहायक क्रियाओं के साथ जब "नहीं" का इस्तेमाल करते हैं जैसे [ Doesn't, Don't, Have n't ] तब लगाया जाता है। इसे उदहारण के साथ अच्छे से समझें।

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. यह सोनम का कुत्ता है।

1. It is Sonam's dog.

2. यह सुहाना का पेन है। 

2. It is suhana's pen.

3. टीना का भाई मेरा दोस्त है।

3. Tina's brother is my friend.

4. शुभम का दोस्त अच्छा नहीं है

4. Shubham's friend isn't good.

5. यह संजना का कुत्ता नहीं है

5. It isn't sanjana's dog.

3. Types of Sentences in English

वाक्य ( Sentences ) में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है क्योंकि वाक्यों से किसी भी भाषा को पहचाना व समझा जाता है। 

हमें सभी भाषाओं को बोलने या लिखने के लिए कुछ न कुछ शब्दों का इस्तेमाल करना पड़ता है। वाक्य का मतलब किसी दूसरे व्यक्ति को अपनी बात को समझाने के लिए जिन शब्दों का इस्तेमाल करते हैं, उसको वाक्य कहते हैं। आइये वाक्य के प्रकार को समझते हैं। 

1. कथनवाचक वाक्य ( Assertive Sentences )

ऐसे वाक्य जिसमे कोई सामान्य बात का वर्णन होता है, इस तरह के वाक्य को कथनवाचक वाक्य कहते हैं। इसमें सकारात्मक और नकारात्मक वाक्य दोनों कहे जा सकते हैं।

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. हिमानी मेरी बहन है।

1. HImani is my sister.

2. मैं स्कूल जाता हूँ।

2. I go to school.

3. रानी बाजार जा रही है।

3. Rani is going to the market.

2. प्रश्नवाचक वाक्य ( Interrogative Sentence ) 

ऐसे वाक्य जिसमे किसी को या किसी से प्रश्न पूछा जाता है, वह वाक्य प्रश्नवाचक वाक्य कहलाता है, और अंत में हमेशा प्रश्नवाचक चिन्ह ? का इस्तेमाल करते हैं। इसमें सकारात्मक और नकारात्मक वाक्य दोनों कहे जा सकते हैं।

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. आप कहाँ जा रहे हो ?

1. Where are you going ?

2. तुम स्कूल कब जाते हो ?

2. When do you go to school ?

3. तुम्हारा नाम क्या है ?

3. What is your name ?

3. आज्ञावाचक वाक्य ( Imperative Sentences ) 

ऐसे वाक्य जिसमें कहे वाक्य का अर्थ आज्ञा, प्रार्थना या आदेश को व्यक्त करता है, वह वाक्य आज्ञावाचक वाक्य कहलाता है। इसमें सकारात्मक और नकारात्मक वाक्य दोनों कहे जा सकते हैं।

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. यहां से बाहर जाओ। ( आदेश )

1. Get out of here.

2. तुम्हे स्कूल जाना पड़ेगा। ( आज्ञा )

2. You have to go to school.

3. तुम्हे यहां से जाना चाहिए। ( प्रार्थना )

3. You should go from here.

4. विस्मयादिबोधक वाक्य ( Exclamatory Sentences )

ऐसे वाक्य जिसमे हम अपनी भावनाओं को व्यक्त करते है जैसे ख़ुशी, दुःख, हैरानी, डरना, धमकाना आदि तरह के वाक्य को व्यक्त करते हैं, वह वाक्य विस्मयादिबोधक वाक्य कहलाते हैं।

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. वाह ! क्या सुन्दर लड़की है।

1. Wow ! What a beautiful girl.

2. भगवान आपको आशीर्वाद दे !

2. God bless you!

3. क्या बकवास है !

3. what rubbish !

4. Parts Of Sentences in English 

Parts Of Sentences

 मुख्य तौर पर वाक्य के तीन भाग होते हैं कर्ता Subject, क्रिया Verb और कर्म Object जिनके बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं।

1. कर्ता ( Subject ) 

कर्ता किसी भी वाक्य का मुख्य भाग है, क्योंकि इसी से ही वाक्य में पता चलता है की कर्ता संज्ञा है या सर्वनाम, पुरुष है या फिर कोई महिला है इससे हमें वाक्य में कर्ता की स्थिति का ज्ञान होता है। 

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. मैं सेब खाता हूँ।

1. I eat apple.

Note यहां पर वाक्य है जिसमें "मैं" 1st Person Singular कर्ता है। 

2. रानी स्कूल जा रही है।

2. Rani is going to school.

Note यहां पर वाक्य है जिसमें "रानी" कर्ता है। जो एक संज्ञा है।

3. वह घर पर है।

3. He is at home.

Note यहां पर वाक्य है जिसमें "वह" कर्ता है। जो एक सर्वनाम है।

4. हम कल स्कूल जायेंगे।

4. We will go school tomorrow.

Note यहां पर वाक्य है जिसमें "हम" 1st Person Plural कर्ता है। 

5. तुम यहां से जाओ।

5. You go from here.

Note यहां पर वाक्य है जिसमें "तुम" 2nd Person Plural कर्ता है।

2. क्रिया ( Verb )

कर्ता के द्वारा किया गया काम या कार्य को ही क्रिया कहते हैं। अर्थात कर्ता किसी भी वाक्य में जो भी काम करता है वही क्रिया है, जैसे सोना, उठना, रोना, जाना, आना, खाना, पीना, पढ़ना, लिखना आदि सभी क्रियाएँ हैं। इनमे से कोई भी वाक्य में क्रिया के रूप में इस्तेमाल हो सकता है। 

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. मैं स्कूल जाता हूँ।

1. I go to school.

इस वाक्य में Subject है "मैं" और Verb है "जाना" [ go ] लेकिन वाक्य में ध्यान देने वाली बात है की यह एक Simple Present Tense का वाक्य है। इस वाक्य में क्रिया [ Verb ] "जाने" [ go ] का काम कर रहा है। "जाना" [ go ] ही इस वाक्य का क्रिया है।

NOTE काल [ Tense ] के बारे में हम आने वाले अध्याय में विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे। 

2. वह कार है

2. That is the car.

इस वाक्य में Subject है "वह" [ that ] और Verb है "है" जो एक क्रिया है। लेकिन वाक्य में ध्यान देने वाली बात है की यह एक Simple Sentences का वाक्य है। इस वाक्य में क्रिया [ Verb ] "है" है। इस वाक्य में कर्ता के द्वारा कोई भी काम नहीं हो रहा है। लेकिन यहां पर मुख्य क्रिया के रूप में "है" [ is ] को दर्शाया गया है। इस वाक्य में ध्यान देने वाली बात ये है कि कर्ता के जरिये कार्य क्रिया [ Verb ] की नहीं बल्कि उसके समय की अवस्था अर्थात [ यह एक Simple Sentences का वाक्य है ] की जानकारी मिल रही है।

NOTE सहायक क्रिया [ Helping या Auxiliary verbs ] के बारे में हम आने वाले अध्याय में विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे। 

Types of Verbs 

A. मुख्य क्रिया ( Main Verb ) 

मुख्य क्रिया, कर्ता के किये गए कार्य की व्याख्या करता है और हमें यह बताता है कि कर्ता ने वाक्य में क्या किया है। मुख्य क्रिया जैसे कि सोना, उठना, रोना, जाना, आना, खाना, पीना, पढ़ना, लिखना आदि सभी मुख्य क्रियाएँ हैं।

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. मैं अभी टीवी देख रहा हूँ।

1. I am watching TV right now.

2. सुहाना सेब खा चुकी थी।

2. Suhana had eaten apple.

3. वह सिनेमा जाता है।

3. He goes to the cinema.

B. सहायक क्रिया ( Helping या Auxiliary Verb ) 

सहायक क्रिया, कर्ता की अवस्था [ State ] के बारे में हमें जानकारी देता है। सहायक क्रिया को हमेशा मुख्य क्रिया के पहले प्रयोग किया जाता है। सहायक क्रिया का प्रयोग करते समय ध्यान रखा जाता है की कर्ता Singular या Plural है और Tense कौन से समय Present or Past or Future को बता रहा है। सहायक क्रिया को Tense के हिसाब से प्रयोग में लाया जाता है जैसे Present में [ is, am, are, have, has, do, does ] और Past में [ was, were, had, did ] और Future में [ will ] आदि होते हैं।

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. मैं खाना खा रहा हूँ। 

1. I am eating food.

2. तुम स्कूल क्यों जाते हो ?

2. Why do you go to school ?

3. सोनम बाजार जा रही थी। 

3. Sonam was going to the market.

3. कर्म ( Object ) 

कर्ता के द्वारा किया गया कार्य का फर्क जिस पर पड़ता है वह कर्म Object कहलाता है। 

आइये उदाहरण के द्वारा समझें 

1. मेरे पास पेन है। ( Object - पेन )

1. I have a pen.

2. मेरे पास कुछ पैसे हैं। ( Object - पैसे )

2. I have some money.

3. आपका कार अच्छा है। ( Object - कार )

3. Your car is good.

4. अमृता मेरी बहन है। ( Objcet - मेरी बहन )

4. Amrita is my sister.

5. प्रवीण मेरा भाई है। ( Object - मेरा भाई )

5. Praveen is my brother.

 


THANK YOU IF YOU LIKE THIS LESSON PLEASE SHARE YOUR LOVELY FRIENDS